Top 10 Amazing Benefits Of Vajrasana In Hindi #2021

/ / / Top 10 Amazing Benefits Of Vajrasana In Hindi #2021

प्राचीन समय से ही योग को अच्छे स्वास्थ्य के लिए कारगर माना जाता है। प्रतिदिन  15 से 20 मिनट
योगासन करने से हमारे शरीर में कुछ चमत्कारी लाभ होते हैं। हर प्रकार के आसनों का अपना एक
अलग महत्व होता है  जो हमारे शरीर को बीमारी से दूर रखते हैं और हमें एक आकर्षक व्यक्तित्व प्रदान
करते हैं।

योग में काफी सारे आसन है जिनके लाभ भी अनेक है। आज हम बात करने वाले हैं ब्रज आसन के बारे
में जिसे ब्रज़ मुद्रा भी कहा जाता है। ब्रज आसन  इतना आसान आसन है कि पहली बार योग करने वाले
लोग भी ब्रज आसन  को आराम से कर सकते हैं। आइए ब्रजा सन के अर्थ को थोड़ा विस्तार से  जानते
हैं ‘ब्रज’ का अर्थ होता है ‘हीरे के आकार का ‘या  ब्रज़ा और आसन का अर्थ है’ एक प्रकार की मुद्रा’। इस
प्रकार ब्र जासन का नाम इसके आकार लेने के नाम पर रखा गया है जो कि एक हीरा या ब्रज का
आकार है। तो अब आगे जानते हैं ब्रज़ासन करने के टॉप 10 फायदे –

ब्रज़ासन करने का तरीका

आगे बढ़ने से पहले ब्रज़ासन करने के तरीके को जान लेते हैं-
सबसे पहले अपने दोनों पैरों को आगे की तरफ सीधा रखना है उसके बाद बाएं घुटने को मोड़कर कूल्हे के
नीचे तथा दाएं घुटने को मोड़ कर कूल्हे के नीचे रखना है। पीछे के पैरों से दोनों उंगलियों को मिलाना है
और उसके बाद दोनों कुल्हो को एड़ीयो के बीच में रखना है फिर उसके बाद दोनों हाथों को जाँघ पर
रखना है। उसके बाद कमर पीठ और गर्दन को सीधा रखें और सामने की तरफ देखें और सांसों को
सामान्य रूप से लें और छोड़े।

1- ब्रज आसन मन की शांति के लिए फायदेमंद

ब्रजासन शांति और ध्यान का अभ्यास करने के लिए एक सबसे उत्तम आसन है इस आसन में व्यास
व्यायाम करने से हमारे मन को शांति मिलती है और हमें आंतरिक रूप से लाभ होता है। प्रतिदिन 5

मिनट ब्रजासन करने से  मन नियंत्रित होने लगता है। अगर आपके अंदर एकाग्रता नहीं है  तो अपनी
एकाग्रता को बढ़ाने के लिए ब्रज़ासन  अवश्य करें। जानकारी के लिए आपको बता दें कि 2011 में
इंटरनेशनल जर्नल आफ बायोलॉजिकल एंड मेडिकल रिसर्च ने एक लेख प्रकाशित किया था जिसमें
ब्रज़ासन के लाभों को बताया गया था और उसमें बताया गया था कि ब्रजासन मनोवैज्ञानिक विकारों
तनाव और उच्च रक्तचाप की रोकथाम और इसके उपचार में फायदेमंद साबित होता है।

2- पेंनविक फ्लोर को शक्ति देता है ब्रज़ासन

आपके कूल्हों के बीच का क्षेत्र जो आप के प्रजनन अंगों को रखता है इसे ही पेलविक फ्लोर कहते हैं।
पेल्विक फ्लोर में वे मांसपेशियां और ऊतक शामिल होते हैं जो आपके पेल्विक के नीचे एक गोफन बनाते
हैं। अगर आपका पेन्विक फ्लोर कमजोर है तो एक कमजोर पेल्विक फ्लोर होने से आपके मूत्राशय या
आंत्र को नियंत्रित करने में परेशानी हो सकती है।
ब्रज आसन करने से पेन्विक में रक्त संचार बढ़ता है जिससे हमारी पेळ्विक फ्लोर की मांसपेशियां
मजबूत हो जाती हैं।

3- वज़न कम करने में सहायक

वैसे तो ज्यादातर योगासन वजन कम करने में सहायक होते हैं. और उन्हीं योगासन में से एक ब्रजासन
भी है जिसे प्रतिदिन करने से वजन तेजी से कम होने लगता है। ब्रजासन हमारे पाचन को बढ़ाता है और
पेट की चर्बी को कम करने में मदद करता है। यह बॉडी मास इंडेक्स और मोटापा कम करने में प्रभावी
पाया जाता है। आजकल हर दूसरा इंसान मोटापे से परेशान हैं और हमारी बढ़ती उम्र के साथ-साथ
मोटापा हम पर हावी हो जाता है और हमें आलसी बना लेता है। ब्रजासन ना केवल शरीर के पाचन
शक्ति को बढ़ाता है बल्कि पेट के क्षेत्र में वजन कम करने में भी मददगार साबित होता है। ब्रजासन
करने से तेजी से पेट की चर्बी कम होती है क्योंकि इस मुद्रा को करते वक्त सीधा रहने के लिए एक
मजबूत कौर की जरूरत होती है और यह बदले में उस स्थान की मांसपेशियों को बनाती है जिस कारण
पेट का अतिरिक्त मांस कम होने लगता है।

4- ब्रज़ासन हमारी पीठ के निचले हिस्से को मजबूत बनाता है

ब्रजासन करने से पीठ का निचला हिस्सा मजबूत हो जाता है ब्रजासन में सही तरीके से बैठने से हमारी
पीठ के निचले हिस्से को सीधा होने की आवश्यकता होती है जिसका मतलब यह हुआ कि उस हिस्से पर
अत्यधिक बल पड़ रहा है। पेट के निचले हिस्से पर ज्यादा बल पड़ने के कारण वह हिस्सा मजबूत होने
लग जाता है। और साथ ही ब्रजासन करने से हमारी पैरों की मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं। ब्रजासन
करते वक्त हमें पैरो के बल नीचे बैठना पड़ता है जिस कारण पैर की मांस पेशियां  मजबूत  बनती है।

5- अनेक बीमारियों से छुटकारा दिलाता है ब्रजासन

ब्रजासन एक ऐसा आसन है जिसे करने से अल्सर जैसी बीमारी भी ठीक हो जाती है और एसिडिटी की
परेशानी से भी मुक्ति मिल जाती है। इसके अलावा जिनके शरीर में थकान रहती है उनके लिए भी
ब्रजासन करना किसी वरदान से कम नहीं है। ब्रजासन करने से आलस दूर होता है प्रतिदिन 5 मिनट
ब्रजासन करने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिससे हमारा शरीर अनेकों बीमारियों से लड़ने में
सक्षम हो जाता है।

6- शरीर की मांसपेशियों को मजबूत करता है

इस आसन को करने से हमारे शरीर की मांसपेशियों पर जोर पड़ता है और पूरे शरीर की मांसपेशियां
मजबूत हो जाती हैं.
ब्रजासन हमारे मेरुदंड को सीधा रखता है जिस कारण हमारी एकाग्रता भी बढ़ती है क्योंकि मेरुदंड  का
सीधा कनेक्शन दिमाग से होता है। प्रतिदिन नियमित रूप से ब्रजासन करने से शरीर में तेजी से बदलाव
आते हैं। ब्रजासन करने से हमारा शरीर एक अच्छे शेप में आ जाता है जिससे हम एक आकर्षक
व्यक्तित्व के मालिक बन जाते हैं।

7- महिलाओं के लिए उत्तम

ब्रजासन करना महिलाओं के लिए भी अच्छा आसन माना जाता है इसे करने से प्रसव की पीड़ा कम होती
है।अक्सर डॉक्टर महिलाओं को यह आसन करने की सलाह देते हैं।

8- मानसिक तनाव कम होता है

वैसे तो कई आसन मानसिक तनाव को कम करते हैं  जैसे- अनुलोम- विलोम और ध्यान करना। ठीक
इसी प्रकार ब्रजासन भी मानसिक तनाव को कम करने में सक्षम है।जो लोग अपनी रोजमर्रा की जिंदगी
के कारण ज्यादा परेशान व चिंतित रहते हैं ऐसे लोगों को हर रोज 5 मिनट ब्रजासन करना चाहिए।
ब्रजासन एक आसान आसन है जिसे हर कोई कर सकता है इसीलिए ब्रज़ासन को करना मानसिक तनाव
व चिंता को कम करना है।

9- ब्लड सर्कुलेशन को अच्छा करता है

ब्रज़ासन ब्लड सर्कुलेशन को अच्छा करने का एकदम आसान आसन है। नियमित रूप से ब्रजासन करने
से ब्लड सर्कुलेशन तेज हो जाता है। जिससे हमारा पूरा शरीर खिल उठता है।अगर आपको चेहरे से जुडी
हुई कोई भी समस्या है जैसे – चेहरे में दाग धब्बे होना, और झुर्रियां पड़ना! ऐसे में ब्रज़ासन करने से
चेहरे से संबंधित सारी समस्याओ का समाधान हो जाता है। रोज सुबह उठकर नियमित रूप से  ब्रजासन
करने से चेहरा साफ और बेदाग हो जाता है और साथ ही चमक उठता है।

10- जोड़ों में दर्द और गठिया जैसी बीमारियों में फायदेमंद

गठिया, ज्वाइंट पेन वेरीकोज जैसी बीमारियों को दूर करने के लिए ब्रज़ासन को नियमित रूप से करना
चाहिए।  अगर आपके जोड़ों में दर्द रहता है तो इस आसन को करने से जोड़ों का दर्द दूर हो जाता है
जिसका परिणाम आपको एक हफ्ते के अंदर दिख जाएगा। ब्रजासन मात्र एक ऐसा आसन है जिसे भोजन
के बाद भी किया जा सकता है।

नोट – अगर आपके पैरों या कमर में किसी प्रकार का गंभीर दर्द है  और यह समस्या आपकी लंबे समय से चल रही है तो ऐसे में ब्रज़ासन करना चाहिए।  इस आसन को करने में यदि किसी भी प्रकार की समस्या होती है तो आपको किसी योग गुरु की सहायता जरूर लेनी चाहिए।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *