Top 10 Amazing Benefits Of Turmeric Milk In Hindi #2021

/ / / Top 10 Amazing Benefits Of Turmeric Milk In Hindi #2021

हमें खासी,गले में दर्द होने पर या शरीर में कहीं पर चोट लगने पर घर वाले हमें हल्दी का दूध पिलाते हैं
क्योंकि हल्दी एंटीबायोटिक है इसीलिए इसको एक महत्वपूर्ण औषधि माना जाता है।  प्राचीन समय से ही
हल्दी का उपयोग दर्द,  चोट लगने और अन्य बीमारियों के लिए किया जाता है।  आज के समय में
कई सारे हेल्थ केयर प्रोडक्ट्स होते हैं जिनमें हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है।  जिस प्रकार से हल्दी
एक फायदे औषधि है हमारे लिए ठीक उसी प्रकार से हल्दी वाला दूध जिसे इंग्लिश में टर्मरिक
मिल्क(Turmeric milk )कहते हैं।  हल्दी को अगर दूध के साथ मिलाकर पिया जाए तो यह अनेकों
प्रकार से हमारे शरीर में फायदे पहुंचाता है। वैसे तो हल्दी के दूध के ना जाने कितने फायदे हैं  जो हमारे
शरीर के लिए किसी चमत्कार की तरह काम करते हैं।आज हम बात करेंगे Turmeric milk से होने वाले
टॉप 10 फायदे (benefits )के बारे में।

नोट – हमने  Turmeric milk से जुड़ी हुई सारी जानकारी इंटरनेट और किताबों से जुटाई है। हर एक औषधि के कुछ फायदे हैं और कुछ नुकसान भी है इसीलिए किसी भी औषधी का इस्तेमाल करनें से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले। कुछ औषधियों के फायदे भी होते हैं और कुछ नुकसान भी  इसीलिए इनका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करें।

Top 10 benefits of Turmeric Milk in Hindi

1- लिवर की मजबूती के लिए हल्दी का दूध

एक अध्ययन में यह साबित हुआ है कि हल्दी में पाए जाने वाला करक्यूमिन, शरीर के एंडोथेलियल
फ़ंक्शन को सुधारने का काम करता है।
प्रतिदिन एक गिलास हल्दी का दूध पीने से आपके शरीर में अनेको फायदे मिल सकते हैं। प्रतिदिन हल्दी
दूध के सेवन से लिवर में मौज़ूद सारी गंदगी निकल जाती है जिसके बाद आपको ताज़ा और सेहतमंद
महसूस होता है।  इसका मतलब है कि यह ब्लड प्रेशर को सुधारने में मदद करता है। ऐसा होने से खून
अच्छे से साफ होता है और पूरे शरीर में खून का बहाव सही बना रहता है। आप हर रोज एक गिलास
हल्दी के दूध का सेवन कर सकते है जिसका परिणाम आपको कुछ दिनों में ही मिल जाएगा।

2-त्वचा को बनाएं चमकदार

अक्सर आपने कई ब्यूटी प्रोडक्ट्स में हल्दी के इस्तेमाल के बारे में जरूर सुना होगा।  काफी ब्यूटी
प्रोडक्ट्स में आज हल्दी का इस्तेमाल आवश्कतानुसार मात्रा में होता है हल्दी एक एंटीबायोटिक है
इसीलिए इसमें कई सारे गुण मौजूद हैं जो हमारी त्वचा के लिए भी लाभदायक है।  अगर हर रोज एक
गिलास हल्दी वाला दूध पिया जाए तो यह आपके चेहरे को चमकदार बना देगा। आपको चेहरे से जुड़ी हुई
कोई भी समस्या है जैसे- आपके चेहरे पर दाग- धब्बे हैं और समय से पहले चेहरे पर झाइयां पड़ चुकी है
तो ऐसे में आपके लिए टर्मरिक मिल्क का
इस्तेमाल बेहद ही फायदेमंद साबित हो सकता है।

2- फेफड़ों में इन्फेक्शन से दिलाएगा छुटकारा

अनेकों प्रकार की  चोटों को दूर करने में सक्षम टर्मरिक मिल्क
फेफड़ों के इंफेक्शन से जूझ रहे लोगों के लिए किसी रामबाण औषधि से कम नहीं है।हल्दी दूध के फायदे
इसमें मौजूद करक्यूमिन के कारण हैं जो हल्दी दूध को एंटी- माइक्रोबियल खूबी देता है। यह शरीर में
गर्मी लेकर आता है जिससे शरीर में से गंदगी निकल जाती है। रोजाना हल्दी दूध पीने से कई बीमारी से
राहत मिल सकती है अगर आप को सांस लेने में तकलीफ होती है और छाती में भयंकर दर्द होता है तो
ऐसे में रोजाना एक गिलास हल्दी के दूध का सेवन आप को इन सारी बीमारियों से छुटकारा दिला सकता
है।

4-दिमाग़ को संतुलित रखता हैं

हममें से कई लोग अक्सर चीजों को भूल जाते हैं। अपनी रोजाना की भागदौड़ भरी ज़िन्दगी में चीजों को
भूलने के साथ अक्सर लोग तनाव से भी ग्रसित होने लगते हैं।  इन सबका बुरा असर लोगों के दिमाग
पर पड़ता है जिस कारण हम रोज के कामकाज भी ठीक से नहीं कर पाते ।मनुष्य के दिमाग को सही से
काम करने के लिए बीडीएनएफ सही मात्रा में चाहिए होता है। बीडीएनएफ को” मस्तिष्क-व्युत्पन्न
न्यूरोट्रॉफिक कारक ‘कहते है। कई शोधो से निकले परिणामो में यह पाया गया है कि  हल्दी में मौजूद

करक्यूमिन में बीडीएनएफ को सुधारने की क्षमता होती है जिससे दिमाग को एक्टिव रहने में मदद
मिलती है। इसीलिए हर रोज एक गिलास हल्दी का दूध पीने से हमारे दिमाग में इसका काफी
सकारात्मक असर पड़ता है इससे हमें काफी लाभ होता है।

5 चोट लगने में फायदेमंद

कई बार हमें जब कोई गुमचोट लग जाती है तो घर में मेडिसन ना होने पर हमारे घर वाले हमें हल्दी
वाला दूध पीने को कहते हैं। हल्दी के इस्तेमाल से  गुम चोट में राहत मिलती है और यही नहीं अगर
आपके जोड़ों में भी दर्द है तो हल्दी का दूध आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। प्रतिदिन हल्दी के
दूध के सेवन से हर प्रकार के जोड़ों के दर्द से छुटकारा मिल सकता है।

6- सर्दी -जुकाम का रामबाण इलाज

अक्सर हम सर्दी जुकाम या हमारे गले में कफ,खांसी होने पर हम अंग्रेजी दवाइयों का इस्तेमाल करते
हैं।  लेकिन अगर मैं कहूं इन दवाओं के इस्तेमाल ना करके यदि हम हल्दी के दूध का इस्तेमाल करें तो
हमें हर प्रकार के सर्दी -जुकाम,खांसी व कफ़ से राहत मिल सकती है।  सर्दी,जुकाम,बुखार,खांसी में हल्दी
का दूध हमारे लिए किसी रामबाण औषधि से कम नहीं है। इसीलिए टर्मरिक मिल्क इस प्रकार की
बीमारियों से लड़ने के लिए सक्षम हैं जिसके प्रयोग से ही  कुछ घंटे बाद उसका असर हो जाता है।

7- हड्डीयों को बनाएं मजबूत

आपको यह अच्छी तरह से पता होगा  कि दूध में कैल्शियम होता है।  दूध का कैल्शियम हमारे शरीर के
लिए अच्छा होता है जो हमारे शरीर में मौजूद हड्डियों को मजबूत बनाता है।  यदि दूध के साथ हल्दी
मिलाकर पिया जाए तो यह किसी सोने पर सुहागा से कम नहीं होगा।  दूध में कैल्शियम होता है और
हल्दी में एंटीबायोटिक गुण होते हैं जो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं इसीलिए टर्मरिक मिल्क
के लगातार सेवन से हमारी हड्डियां तो मजबूत होती ही है साथ ही हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक
क्षमता भी बढ़ती है।

8- पाचन तंत्र को मजबूत बनाए

टर्मरिक मिल्क हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए सबसे कारगर औषधि है। क्योंकि हल्दी का
दूध हमारे आतों को
स्वस्थ रखता है और सुरक्षा भी प्रदान करता है जिस कारण खाने को पचाने में हमें किसी भी प्रकार की
परेशानी नहीं होती है।
बवासीर,डायरिया,अल्सर,कोलाइट्स जैसी बीमारियों को दूर करने में हल्दी का दूध उत्तम माना जाता है।

9- वायरल संक्रमण से बचाए

अक्सर बदलते मौसम के साथ और आजकल के असंतुलित खान-पान के कारण लोगों की प्रतिरोधक
क्षमता कम हो गई है ।  लोगों के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण इंसान हर प्रकार के
संक्रमण से ग्रसित होता है। इसीलिए वायरल संक्रमण से बचने के लिए हल्दी का दूध बेहद ही फायदेमंद
है।  प्रतिदिन हल्दी का दूध के सेवन से आप साधारण बीमारियों से तो बचेंगे ही इसके साथ ही वायरल
संक्रमण की चपेट में आने से भी
बच जायेंगे।

10- ब्लड शुगर को कम करें

कई बार हमारे खून में ब्लड शर्करा की मात्रा अधिक हो जाती है और ब्लड शर्करा के अधिक हो जाने पर
हमें इससे जुड़ी हुई काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसीलिए ब्लड शर्करा की मात्रा अधिक
हो जाने पर हल्दी के दूध का सेवन बेहद ही कारगर माना जाता है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *